Jab Akele Travel Karta Hun | Arpan Khosla | Poetry on Travel | The Social House Poetry

Posted on

31 thoughts on “Jab Akele Travel Karta Hun | Arpan Khosla | Poetry on Travel | The Social House Poetry”

  1. सुना है तुझको भी शौक ए ज़िन्दगी नहीं
    ज़िन्दगी से खुश तो भला मैं भी नहीं
    मेरी ज़ात में खुद को तलाश ना कर
    मेरी ज़ात में तो रहा खुद मैं भी नहीं
    ~~फहीम असवद

  2. Zindagi ka manzar kuch esa chal raha he yaha akelapan apna sa lag raha he,
    Ye akelapan mujhe itna sikha jata he ,
    Mere zindgi ke chhand panno ki glti dohra kr ,
    Mujhe ,Vaps na krne ki seekh de jata he ..

  3. मरना -जीना तो लम्हातो का खेल है, वरना पत्थर भी कहा रोया करते है, आँशु तो उन कमदर्दो के निकलते हैं, जिनके आशियाने में हवाओँ से बातें करने के लिए पंख नही हुआ करते

  4. Waisw sir.. Jb akele travel krtey hn to ek cellphones hi to hn jo sbse jada sath dete hn😋😍 anyways
    Nice lines maine travel kiya h bht akele so.. Mai to soul talkative bn gyi hu.. Nature k touch ko kreeb se dekha or a
    Mahsoos kiya h maine or kuch uncomfortable b fell kiya smtyms….. Ovrall good

  5. काम-धंधे में मन लगाओ भाई,,,,,इन लड़कियों की ऐसी की तैसी,,,,
    लड़का जिंदगीभर सिंगल और loyal हो सकता है,,,और लड़कियों को केवल मज़े चाहिए,,,सही है,,,,,ठोको ताली

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *